जीवन चलने का नाम…

हो उतार या चढ़ाव,

बीहड़ों सा उबड़ खाबड़ या हो झील सा ठहराव..

अनुभवों से भरी हुई वृद्धावस्था

बचपन हो या युवावस्था,

कितनी भी हों मुसीबत

ढेर सारी खुशियाँ और नैमतें,

चलने का नाम ही जीवन है,

ये जीवन चलता रहता है

निरंतर चलता रहता है…..