Why so…

Why someone becomes so important that we can't imagine our life without him...
Why someone becomes our priority when we still have many....
Why we think so much about someone when we already have so many things to think upon...
Why someone becomes a necessity when we were still surviving without his presence...
Why we feel someone always when we already have so much to feel about...
Why someone becomes so special when we have ourself to love..
Why so.....,

Different Mondays

Days have come and days have gone,

In day to day life many battles won…

None of us have ever presumed,

Days like these were never assumed..

There were days when we used to wait for sundays,

And think why weekends are short and early are Mondays..

But from last few months life has been changed so the days,

And we again waiting to have those lazy mondays…..

No ifs and buts

This, that, who, whom, why where,

Here, there, nowhere…

My mind doesn’t settle anywhere,

When I don’t gather the courage and have guts,

Can’t conclude on anything without ifs and buts…

So no ifs and buts now

Decide, move and success without any ifs and buts anyhow…

Solution not problem

Life is not easy we all know that.Life actually comes in different packages and these packages consists of happiness as well as problems.Problems are inevitable.Life is not possible without facing problems and its true we all face problems.But many times we all encountered with the question why me?Once this question arrives the focus gets shift from seeking the solution towards the problem.And we focus on the problem it would really be very difficult to arrive on a solution.There is no such problem which do not have any solution. If we keep ourself focused on finding the solution then definitely we will get the correct solution or the ways to come out of it.In order to reach out to a solution what we exactly need is determination, the determination of getting the solution and not to let our focus divert from finding a solution to the problem.Keep sticking with the problem won’t going to help but many keep talking about problem instead of working to solve the same.So be determined and focused towards the solution and get rid of all the problems which may arise anytime.

मेरे प्यारे पापा

मेरे प्यारे पापा, मेरे भोले पापा…

यादों की रेलगाड़ी में बैठ चल पड़ी हूं बचपन से लेकर अभी तक की यादों में..

वो आपका बारी बारी से सभी को झूला झुलाना बाहों में,

तो कभी बन जाना घोड़ा और करवाना पीठ की सवारी.. बस इसका बहुत हुआ पापा अब है बारी हमारी,

अपनी इस छोटी सी गुड़िया की एक ज़िद पर पूरे बाज़ार से ढूंढ कर लाना फ्रॉक गुड़िया वाली..

कभी बार बार ज़िद करने पर लाना अपनी गुड़िया के लिए गुड़िया आँखों वाली,

जब हुई ज़रा सी भी तबियत मेरी नासाज़.. बैठे रहे फिक्र से पूरी रात सिर पर रखकर हाथ,

जब कभी भी कुछ मांगने पर माँ ने किया मना.. आपने बिना बोले ला कर दिया उस से कई गुना,

नहीं किया भेद कभी बेटे और बेटी में.. किसी ने कुछ कहा तो हमेशा कहा करो सुधार अपनी सोच छोटी में,

पापा जो हमेशा ही आगे बढ़ने और पैरों पर खड़ा होने करते रहे प्रेरित.. जिनसे रहता था हमेशा अपनेपन का एहसास और संबल पोषित

आज निकल पड़े हैं दूर बहुत दूर सुदूर यात्रा पर छोड़ कर अनगिनत यादें..

मेरे प्यारे पापा, मेरे भोले पापा

खूबसूरत दो आँखें

Wanna sink into these eyes

जितने आसमानी ख्वाब हैं इनमें सिमटे हुए,

उतनी ही हक़ीक़त को मापती गहराईयां भी…

कभी तो कह देती हैं वो सब जो कहना चाहती हैं,

और कभी छुपा लेती हैं जाने कितने ही राज़ गहरे…

कभी हिरण सी चंचलता,

कभी झील सा ठहराव…

खींचे कभी कशिश से अपनी ओर,

कभी दिखाती हैं हों जैसे कोई और…

देख के इनको अब और क्या देखें,

तुम्हारी ये दो खूबसूरत आँखें…

सोचते हो क्यूँ

क्या होगा अगर मैंने ये किया,

क्या होगा अगर मैंने वो नहीं किया..

क्या होगा अगर मैं एक दिन करूँ वही जो दिल करे,

क्या होगा अगर वो नहीं किया जो बांकी सब कहें,

क्या होगा अगर आज कर लूं मन की,

हँस लूं दिल खोल के, फिक्र छोड़ दूं जग की..

क्या होगा अगर…..

सोचते हो क्यूँ??

ज़िन्दगी है जी लो जी भर के एक एक लम्हा,

सोचते हो क्यूँ?

जीवन चलने का नाम…

हो उतार या चढ़ाव,

बीहड़ों सा उबड़ खाबड़ या हो झील सा ठहराव..

अनुभवों से भरी हुई वृद्धावस्था

बचपन हो या युवावस्था,

कितनी भी हों मुसीबत

ढेर सारी खुशियाँ और नैमतें,

चलने का नाम ही जीवन है,

ये जीवन चलता रहता है

निरंतर चलता रहता है…..